Header Ads

Bewafa shayari and gajal in Hindi

Bewafa shayari in Hindi are for those who have experienced breakup in their Relationship. Today We are going to Share TOP Bewafa shayari in Hindi with You. When Person Feels Cheated in Love, So I have posted a sad bewafa status in Hindi. Is post me Hum aapko denge Bewafa shayari, Bewafa whatsapp shayari, Bewafa shayari for her, Bewafai shayari, Bewafa Whatsapp shayari in hindi for her and him.


Bewafa shayari and gajal in Hindi
Bewafa shayari and gajal in Hindi

Bewafa shayari and gajal


इश्क के इस दाग का एक बेवफा से रिश्ता है
 इस दुनिया में सदियों से आशिक का ये किस्सा है
दर्दे-दिल की आग को कोई सागर क्या बुझाएगा 
दिलजला तो मौत के पहलू में जाकर ही बुझता है
हर सितम एक आईना है, तुमको देखूं बार-बार 
खूने-जिगर तो तेरी जफा ही पाने को तरसता है
कागज के फूलों की खूशबू भर जाती है आंखों में 
तेरे इन पुराने खतों में तेरा साया दिखता है.


देखें कि जमाने में क्या गुल खिलाते हैं हम 
अब तक तो दर्द को ही उगाते रहे हैं हम
कश्ती के मरासिम से दरिया में आ गए
 वरना किनारों से ही दिल लगाते रहे हैं हम
मुहब्बत की आग में जो जलके खाक हो चुके 
उनमें भी कुछ धुएं को जगाते रहे हैं हम
नहीं जानता बेवफाओं से क्या रिश्ता हमारा 
अब तक तो उनसे फासले बनाते रहे हैं हम.


कौन से लफ्ज़ में मैं दर्द की सदा लिखूं 
किस तरह मैं अपने ही दिल को बेवफा लिखूं
इन अंधेरों की खामोशी में है रूह मेरी 
और उजालों में दिखे जिस्म को जनाजा लिखूं
साज के रोते हुए सुर मुझे कुछ कहते हैं 
इन सुरों को मैं किसी नज्म का आईना लिखूं
सात रंगों को लिखता हूं मैं इंद्रधनुष 
सैकड़ों जख्म की रंगत को आशना लिखूं.


जख्म खाकर ही अपनी भूख मिटा लेते हैं
 आंसू पीकर ही अपनी प्यास बुझा लेते हैं
झलकता है हर आईने में खुदगर्ज कोई
 अपने चेहरे से हम आंखें हटा लेते हैं
मेरी रातों को दीपक की जरूरत ना रही 
रोशनी के लिए तेरी याद जला लेते हैं
लोग मरते रहे जन्नत की खुशियों के लिए 
और हम हैं कि अपना हर दर्द बढ़ा लेते हैं.


नफ़रत से भी अब नफ़रत ना रही, गिला करना अपनी फ़ितरत न रही। सब कुछ तो पा लिया उनको पाते, अब तो दिल में कोई हसरत ना रही। मोहब्बत में ख़ुद को खो दिया मैंने, कुछ और करने की फ़ुरसत न रही। लोग अब इस क़दर मिलने लगे, कुछ कहने की ज़रूरत ना रही। बहार और पतझड़ का फ़र्क़ नहीं, कैसे कहुं दुनिया खुबसूरत ना रही। निगाहों में अब तुम हीं तुम हो, अब नज़र के सामने कोई सूरत न रही.
 

न जीतने की जिद ही थी, न हारने का सवाल था 
मुझे जिंदगी में हर कदम पर मौत का खयाल था
किसको कहूं और क्या कहूं, फिर सोचता हूं क्यूं कहूं 
यहां दोस्त हैं कई मगर, हमराज का अकाल था
खुलते गए मेरे सामने दरवाजों में लगे आईऩे
 देखा कि उस मकान में हर अक्स बदहाल था
आंखों में जिनके बस गई दुनिया भर की रौनकें
 वो शख्स बेवफाई का एक जिंदा मिसाल था.


किया है इश्क मगर मैं बिछड़ गया तन्हा 
उसे मैं देखकर हर बार गुजर गया तन्हा
याद आता है मुझे उसके जूड़े का बंधन 
जो मेरे सीने को बांधे चला गया तन्हा
वो कैसा दर्द भरा था उसकी आंखों में
जो मेरी आंखों में आके बह गया तन्हा
कहीं पे खोयी सी रहती थी वो उदासी में 
रू ब रू उसके मैं आईना बन गया तन्हा.


ढूंढकर पाएंगे क्या हम दुनिया के घर-बार में 
क्या मिलेगा दिल को इस दौलत के बाजार में
बस पूछते हैं सब यही काम क्या करता हूं मैं 
कहता हूं दिल पे हाथ रख, मैं हूं इसके बेगार में
मुंह मोड़ गए थे तुम मेरी मायूस सूरत देखकर 
तूने भी ये देखा नहीं कि क्या है दिले-बीमार में
तन्हाइयों की रात में हम सो नहीं पाए कभी 
बस छत पे टहलते रहे सोए हुए संसार में.


आके तू मेरी मौत पे एक फूल चढ़ा दे
ता उम्र तेरे इश्क में मरने की दुआ दे
उंगली को न तू रोक अब, छूने दे मेरे नब् ज़
तू अपनी धड़कनें तो मेरे रग को सुना दे
ले चल मेरी मैयत को तन्हाई में कहीं
 और हुस्न की इस आग से ये लाश जला दे
मेरी खाक को आँचल में ही बाँध लेना तुम
 इस पोटली को तू किसी दरिया में बहा दे.


सांस रुक जाए मगर आंखें कभी बंद न हो 
मौत आए भी तो तुझे देखने की जिद खत्म न हो
दर्द उठता है तो बस ये ही दुआ करता हूं 
तेरे दिल में मेरे खातिर कोई भी जख्म न हो
जिन चिरागों को जलाने के लिए आग नहीं 
उनकी लाशों पर कभी जुगनुओं का जश्न न हो
जिंदगी तुमसे मेरा खून का रिश्ता है मगर 
फिर से मेरा ऐसे रिश्तों में कभी जन्म न हो.

Home  

Attitude Status  

Love Status 

Sad Status 

Yaad Status 

Dosti Status

Happy Birthday Shayari 

Mahakal attitude status

Bewafa shayari and gajal


ये नजर-नजर की बात है कि किसे क्या तलाश है 
तू हंसने को बेताब है, मुझे रोने की ही प्यास है
तुम फूल देखते हो जब, रख लेते हो उसे तोड़कर 
मेरे लिए हर फूल इस कुदरत का हसीं ख्वाब है
तुम चाहते हो लोग तुम्हें देखें और तारीफ करें 
हम सोचते हैं दुनिया में वो करता झूठी बात है

इन चांद-तारों में है क्या, इन हसीं नजारों में है क्या 
उसे क्या पता जिसकी नजर पर दौलत का नकाब है.


बैठे-बैठे सोच रही हूं दीवारों से पीठ लगा के 
खुद को मैं खोज रही हूं, सीने पे खंजर चला के
उम्मीदों का सावन कल तक, बरसा था दो आंखों से
 आज सब कुछ सूख गया है, रेतों में उम्मीद जगा के
आने दो इन पंछियों को, आंगन में मैं अकेली हूं 
मेरी तरह मुसाफिर हैं ये, जीते नहीं हैं शहर बसा के
अपनी दुनिया वो नहीं जिसमें दिल का नाम नहीं 
कैसे जीएंगे हम भला फिर किसी से देह लगा के.


हम तेरी मुहब्बत में आफताब बन गए 
जिसमें न धुंआ हो वो आग बन गए
उगते रहे हैं शूल भी सीने की जमीं से
 जबसे तुम मेरे दिल के गुलाब बन गए
अब देखना दुनिया को न हो सका मुमकिन 
तुम मेरी निगाहों पे नकाब बन गए
हम आज तक छुपाते रहे राज ए मुहब्बत
 न जाने तुम किस तरह हमराज बन गए.


इन हवाओं से बारहा ठोकर खाकर
 फूल गिरते रहे पेड़ों से जमीं पे आकर
अपनी किस्मत में कभी चैन का नाम नहीं 
नींद आती है न कभी वक्त पे जाकर
बेवफा उनको क्यूं कहूं जो साथ न दे 
हमने तो जीना सीखा है बस धोखे खाकर
वो फरिश्ता है जिसे मौत का गम न हो 
जो चढ़ता हो सूली पे खुद से जाकर.


रस्मे-दुनिया को निभाने का हक सबको है
 इस मुहब्बत को मिटाने का हक सबको है
हंसी मिलती है दौलत के कागजी फूलों से 
वहां भी आंखों में कांटों की झलक सबको है
दिल बहलाते हैं वो दर्द भरे नगमों से 
किसी को भूल न पाने की कसक सबको है
सात फेरे लेते हैं जो बड़े अरमानों से 
उनमें एक-दूजे की वफादारी पे शक सबको है.


मुहब्बत आप क्या जाने, शराफत आप क्या जानें 
अरे दुनिया के सौदाई, ये उल्फत आप क्या जानें
दिलों में जल रहे शोले, निगाहों से गिरे झरने
 कभी महसूस न हो तो ये कुदरत आप क्या जानें
जिन्हें महबूब की सूरत से बेहतर कुछ नहीं दिखता 
दीवानों का ये पागलपन, ये फितरत आप क्या जानें
न दौलत है न जागीरें, न रहने का ठिकाना है 
फकीरों की तरह जीने की कीमत आप क्या जानें..


कहता हूं मैं ये बात भी तेरी भलाई के लिए 
न चुन तू टूटी चूड़ियां अपनी कलाई के लिए
इस दिल को ये मंजूर है, तू खुश रहे हर हाल में 
मुझसे न तू ये इश्क कर दर्दे-जुदाई के लिए
दुनिया पे मैं एक दाग हूं, तन्हा सा नाशाद हूं 
जज़्बात में जीता हूं बस दिल जलाई के लिए
मुफलिस के दामन से तुझे मिलेगा क्या भला 
तू मान जा धनवान से अपनी सगाई के लिए.


हो सकता है तेरे दिल में मेरे खातिर जगह न हो 
हो सकता है इसके पीछे, किसी तरह की वजह न हो
लो गुनाह कुबूल किया, फिर आशिक कहता है कि 
दुनिया तेरी कचहरी में मेरे इश्क पे जिरह न हो
रात में शाम का बादल ही चांद का कातिल बनता है 
सोचता हूं कि तेरे बिन अब इन रातों की सुबह न हो
तू है गैर के घर में और मैं हो गया जग से पराया 
इश्क की दुनिया में किसी का अंजाम मेरी तरह न हो.


दुनिया से ऊब चुका हूं, कुछ और सांस दे दो 
ये दिल बड़ा प्यासा है, कुछ और प्यास दे दो
जीने की तमन्ना थी, तुझे पाने की आरजू थी 
अब खो चुका हूं सब-कुछ, चंद और ख्वाब दे दो
हर जाम पी गया मैं, ऐ दर्दे-जिंदगानी 
फिर भी बड़ा तरसा हूं, कुछ और शराब दे दो
आबाद इस जहान में बर्बाद सा एक मुसाफिर
 है चांद थका-थका सा, कुछ और तलाश दे दो.


मेरी तन्हाई मिटाने वाला कोई नहीं 
अब मेरा साथ निभाने वाला कोई नहीं
इतना सन्नाटा पसरा है इस जंगल में 
एक पत्ता भी हिलाने वाला कोई नहीं
ये बदन है बेसहारा आंचल की तरह 
इसको सीने से लगाने वाला कोई नहीं
दो घड़ी में ये अंधेरी रात गुजर जाएगी 
हुस्न का चिराग जलाने वाला कोई नहीं.


टूटेंगे नहीं उम्मीद के तारे तब तलक 
दुनिया में रहेंगे बेसहारे जब तलक
शाम बेचेहरा अक्स है इंतजारों का 
रहेगा आईने-मुद्दत ये जाने कब तलक
तू फसाने को कागज पे लिखती तो है 
मेरा किरदार नहीं लिखा तूने अब तलक
मेरी देहरी की सीढ़ी तेरे कदम चूमे
 यही ख्वाहिश है जिस्मो-जां से लब तलक.

Home

Romantic Status 

Fadu Status

Facebook Status

2 Line Status

Desi Swag status

Whatsaap Status

Friend Shayari 

IQSH Shayari

Bewafa shayari and gajal


आई थी शाम बेकरार, आकर चली गई
 होना था बस इंतजार, होकर चली गई
साहिल से दूर एक लहर आती मुझे दिखी
 आंखों से वो सागर पार, बहकर चली गई
आस्मा के सारे तारे टूटकर गिरते रहे
 चांद जिनसे करके प्यार, बुझकर चली गई
दिल में दो रूहों का दर्द लेकर जी रहा 
मुझपे अपना जां निसार दिलबर चली गई.


दुनिया में न बना सके दिल का कोई आशियां 
चिड़ियों सा ढूंढते रहे तिनके यहां-वहां
खाली पैर गरीब का घायल न हो जाए कहीं 
यारों हटा दो राहों से शीशे पड़े हैं जहां
गम का असर कुछ यूं पड़ा मेरी निगाहों पे 
जैसे कि गीली होती है बरसात में मिट्टियां
घटती गई हर साल में मिलने की दो घड़ी 
हम-तुम बड़े हो चले, बच्चों से दिन अब कहां.


हम कितनी दूर आ चुके, तुम कितनी दूर जा चुके 
तुम मेरे दिल में आ चुके, हम तेरे दिल से जा चुके
अब गैर कोई छू ले तुझे तो मुझे ऐतराज नहीं 
तेरे इश्क में हम जिस्म की जरूरत को गंवा चुके
इस चांद को तुमसा कहूं तो बुरा लगेगा खुद मुझको 
जबसे हमें तुम छोड़ गए, ये चिराग हम बुझा चुके
उसे कौन सा सफर कहूं जिसे हो नसीब न हमसफर 
इस जिंदगी की राह को हम दर्द में डुबा चुके.


कानों में है गूंजती दिन-रात यूं तेरी सदा 
सुन नहीं पाया दुनिया से आती हुई कोई हवा
दिल के हर जज़्बात से गम आशना है इस कदर 
दर्द ही देता है मुझको मुस्कुराने की दवा
बेवफा है दुनिया में सजता हुआ हर आईना 
जो उस चमक में खो गए वो भूल गए अपनी वफा
हो गया आसान कितना जीना अब तन्हाई में 
मुश्किल में थी जब जिंदगी, वो कह गए अलविदा.


खोता गया, खोता गया, सब कुछ मेरा खोता गया 
होता गया, होता गया, तूने चाहा जो होता गया
लुटता गया, मिटता गया, तकदीर से पिटता गया 
फिर भी कलम की नोंक को कागज पे घिसता गया
जगता गया, रोता गया, दिन-रात यूं गुजरता गया 
एक दिन मरा तो हर कोई मेरी लाश पे हंसता गया
आशिक हुआ, माशूक हुआ, शायर हुआ, दिल से हुआ 
हर दर्द को सहता गया, हर जख्म पे गाता गया.


कब जाने मरासिम हो, कब जाने मुहब्बत हो 
इस आस में जीते हैं, एक दिन तो कयामत हो
किसका कदम बढ़ेगा, किसके रहगुजर पर 
मंजिल तो दो तरफ हैं, दोनों में कशमकश हो
एक रंज सा होता है, सीने के सफीने में 
इस दर्द के सागर में दिल कैसे सलामत हो
परवाज़ आसमां में उस चांद को छू लेता 
गर उसके ही वश में मिलने की किस्मत हो.


आवारगी में अपना ठिकाना कहां से लाऊं 
तेरे संग रह सके वो तमन्ना कहां से लाऊं
तुझे देखने की किस्मत मिल तो गई है लेकिन 
आंखों में जल सके वो शम्मा कहां से लाऊं
मेरे पास है बचा क्या दिल के सिवा ऐ हमदम 
तेरे लिए खुशी का मैं गहना कहां से लाऊं
सांसों में रह गए हैं आहों के चंद कतरे
 दम मेरा निकल जाए वो सदमा कहां से लाऊं.

Home

Sun pagli Status

Killer Attitude status

Shayari

SMS

GOOD MORNING

GOOD NIGHT

Happy valentine's Day

Dard Status

Bewafa shayari and gajal


आग को सीने में रखना दिलजलों का काम है
अपने ही आंसू से जलना दिलजलों का काम है
छुप गए थे हाले-दिल चांद-तारों की भाषा में
खामोशी से सब कुछ कहना दिलजलों का काम है
साथ चला है एक साया संग मेरे एक दिशा में
आठों पहर तन्हा भटकना दिलजलों का काम है
दुनिया जिनको ठुकराती है पागल और बर्बाद समझके
उनसे ही दो बातें करना दिलजलों का काम है.


बेवफा नही हम 

दिल के अरमान दिल में दफ़न थे
 ता उम्र फीकी मुसकान पहने बैठे थे
आंखों की नमी असली थी मगर,अकेले में मनन करते जीवन पर 
कहाँ जाना था कहाँ पहुँच गए हम
दिल के अरमान जो दफ़न थे दिल में.


जार जार रो रहा था मन 
सनम से जुदा होने का गुम 
इस पार नही तो उस पार मिलेंगे हम
इस पार नही तो उस पार मिलेंगे हम 
बेवफा न थे कफ़न उठाये रुखसत हुए थे 
वादा है उसी को ओड़े चले आयेंगे हम, इस पार नही तो उस पार मिलेंगे हम 
बेवफा न थे कफ़न उठाये रुखसत हुए थे
 वादा है उसी को ओड़े चले आयेंगे हम.


तेरी आंखें जादू कर गईं, दिल में आंसू भर गईं
 हंसती हुई जो मैं जिंदा थी, रोते-रोते मर गई
कैसे मैं समझूं तुमको, कैसे तू समझे मुझको 
जब जुबां न बोलने की कसमें खाके अड़ गई
पास आने के लिए कितनी मोहलत चाहिए 
एक मुद्दत से बहार आते-आते गुजर गई
फासलों में फासले हैं, हर जुदाई में हिज्रां 
एक गम हैं सौ तरह के, झेलकर मैं मर गई.


मुझे दिल से जो भुला दिया, तो तूने क्या बुरा किया 
कांटे का दामन छोड़ कर, जो भी किया अच्छा किया
आवारगी की राह पे चलके मुझे मंजिल मिली 
जिसने मुझे बेघर किया उसने भी कुछ भला किया
जिनके घरों में आंसू थे वहीं पे मुझे पानी मिला 
इस शहर में मेरी प्यास ने कुछ ऐसा तज़रबा किया
ऐ दिल बता तुझे क्या मिला मेरे दाग से खेलकर
 तूने दर्द से सौदा किया, अपनी गजल बेचा किया.


सूनी सेज पे रोती रह गई लेकिन तुमको खबर नहीं
 घिर आए सावन के बादल लेकिन तुमको खबर नहीं
फूल की सारी बगिया उजड़ी, माला टूटी, गजरे टूटे 
कांटों की एक दुनिया बस गई लेकिन तुमको खबर नहीं
आने की कोई सूरत नहीं है, कितना मैं इंतजार करूं 
आस का आईना टूट गया, लेकिन तुमको खबर नहीं
जीवन में अब सांझ-सवेरे, ना सूरज, ना चांद रहा 
सारे दीपक बुझ से गए हैं लेकिन तुमको खबर नहीं.


Thank you for read my post. i hope apko achha laga hoga. please mere post ko share kare or comment kar ke bate post kesa laga. main ise achhe attitude, love, sad, romantic, etc. colletion lata rahunga . dosto mujhe follow kare taki apko new status and shayari milti rahe. thank you for read my post.

No comments